7 Lessons from Elon Musk Life in Hindi | Elon Musk Success Story | Elon Musk Short Biography

7 Lessons from Elon Musk Life in Hindi, Elon Musk Success Story, Elon Musk Short Biography

जिनके मन में विश्वास होता है, सफलता उन्हीं के पास आती है। बचपन में कभी अँधेरे से डरने वाले इलोन बड़े होकर न तो किसी से डरे, न ही किसी जोखिम से डरे, फिर चाहे वह जोखिम कितना भी बड़ा क्यों न हो।

दस साल की उम्र में इलोन मस्क ने अपने घर पर कंप्यूटर प्रोग्रामिंग सीखकर ब्लास्टर नाम का एक वीडियो गेम बनाया, जिसे उन्होंने 500 डॉलर में बेचा। 24 साल की उम्र में अपने भाई के साथ मिलकर एक सॉफ्टवेयर बनाया जिसका नाम उन्होंने ज़िप 2 रखा और बाद में इस कंपनी को उन्होंने 22 मिलियन डॉलर में बेच दिया।

28 साल की उम्र में वह लगभग 150 करोड़ रुपए के मालिक थे। अगर इलोन मस्क चाहते हैं तो इतने पैसों से एशो आराम की जिंदगी जी सकते थे, लेकिन नहीं उन्होंने इस पैसे से ऑनलाइन बैंकिंग x.com की शुरुवात की जो ऑनलाइन ट्रांजेक्शन करने में मदद करती थी।

आगे चलकर इलोन मस्क ने कोफिनिटी (cofinity) नाम की एक कंपनी के साथ मिलाकर PayPal  बनाया जिसका काम ऑनलाइन मनी ट्रांसफर था।  बाद में इलोन मस्क को PayPal से बाहर निकाल दिया, लेकिन बाहर होते हुए 165 मिलियन डॉलर यानी लगभग 1,100 करोड़ रुपए उन्हें PayPal से मिला था।

7 Lessons from Elon Musk Life in Hindi  Elon Musk Success Story  Elon Musk Short Biography
7 Lessons from Elon Musk Life in Hindi | Elon Musk Success Story | Elon Musk Short Biography

PayPal से बाहर निकलने के बाद इलोन मस्क रुके नहीं।  उनके मन में विचार आया क्यों नहीं मंगल ग्रह पर लोगों को बसाया जाएं। और रॉकेट बनवाने के लिए मॉस्को गए वहां पर इलोन मस्क को एक रॉकेट के लिए 8 मिलियन डॉलर का खर्चा बताया जो कि उन्हें काफी एक्सपेंसिव लगा। 

उन्होंने खुद से रॉकेट बनाने की सोची और घर पर ही  Books और इंटरनेट की मदद से रॉकेट साइंस की  पढ़ाई शुरू की और साथ-ही-साथ एक टीम बनाया जिससे  ‘स्पेस एक्स’ कंपनी बनी।

उन्हें रॉकेट टेक्नोलॉजी को इस्तेमाल करते हुए स्पेस लॉञ्च व्हीकल बनाना था और दूसरी तरफ वर्ष 2004 में उन्होंने टेस्ला मोटर्स में भी फंडिंग करना शुरू किया। लेकिन कहते हैं ना इंसान को किसी भी क्षेत्र में पहली बार में सफलता नहीं मिलती है, वैसे ही इलोन मस्क के साथ हुआ

3 लॉञ्च और तीनों ही असफल। ‘स्पेसएक्स’ कंपनी दिवालिया होने के कगार पर पहुँच गई और दूसरी तरफ तरफ टेस्ला दो साल के पीरियड में असफल साबित हुई थी। इसी बीच पाँच बच्चों के पिता इलोन मस्क का उनकी पत्नी से तलाक हो गया।

चारों तरफ से केवल बुरी खबरें ही मिल रही थीं, लेकिन मस्क हार मानकर पीछे हटने के लिए पैदा नहीं हुए थे। अपना सब कुछ दांव पर लगा कर, उधार लेकर फिर से रॉकेट लॉन्च किया और वह सफल हो गया।

स्पेसएक्स’ अंतरिक्ष में ऑरबिट्स भेजनेवाली पहली प्राइवेट कंपनी बनी। इलोन मस्क आनेवाले वर्षों में पूरे विश्व की एनर्जी और ऑटोमोबाइल के क्षेत्र में अपनी कई क्रांतिकारी योजनाओं पर काम कर रहे हैं, वह चाहे सोलर सिटी हो या हाइपरलुक या बोरिंग कंपनी।

ये तो था इलोन मास्क का इंट्रोडक्शन आईये अब जानते है इलोन मास्क के सफलता का 7 रहस्य।

नंबर १

1 फर्स्ट प्रिंसिपल

फर्स्ट प्रिंसिपल का मतलब है—साइंटिस्ट की तरह सोचना। ऐसे सोचना, जहाँ कोई कल्पना न हो। इससे ओरिजनल आइडिया सोचने में मदद मिलती है। अधिकतर लोग एनालॉजी के माध्यम से सोचते हैं।

इसका मतलब है कि किसी चीज को समझने के लिए एक कांसेप्ट को दूसरी जगह फिक्स कर देना। उदाहरण के लिए, हमें पता है कि किसी चीज के जलने से हीट पैदा होती है तो जब हम सोचते हैं कि इंजन कैसे काम करता होगा? तो स्वभाविक सा विचार आता है, जब पेट्रोल जलता होगा तो इंजन को ऊर्जा मिलती होगी और वह चल पड़ता होगा।

असल में, सच तो यह है कि इंजन के सिलेंडर में पेट्रोल के छोटे-छोटे धमाके होते हैं, जिन्हें पिस्टन एक लय में लाकर इंजन को घुमाता है। कहने का मतलब है कि एनालॉजी चीजों को समझना आसान बनाता है,

फर्स्ट प्रिंसिपल का इस्तेमाल हम कॉम्प्लिकेटेड समस्याओं को छोटे-छोटे हिस्सों में तोड़ने के लिए करते हैं। अपनी समस्याओं के बारे में गहराई से सोचने के लिए और समाधान निकालने के लिए ‘फर्स्ट प्रिंसिपल’ बहुत अच्छा तरीका है।

2 सीखते रहें

सीखते रहें इलोन को बचपन से ही जानकारियाँ इकट्ठी करने का बहुत शौक था। उन्होंने कोडिंग, कंप्यूटर प्रोग्रामिंग, बिजनेस स्केल, रॉकेट बनाना ऐसी बहुत सी चीजें जानकारी इकट्ठी करके ही सीखीं।

हर समय सीखते रहो, जरूरी नहीं कि आप सिर्फ पुस्तकों से सीखो। आप लोगों से भी सीखो और एक मार्गदर्शक जरूर रखो, जो आपकी सहायता करे। आप किसी भी क्षेत्र में क्यों न हो, उस क्षेत्र के एक्सपर्ट ने अपनी जानकारी को कहीं स्टोर करके रखा है, जो आपके लिए फ्री है। उसे ढूँढ़ो और उससे सीखो।

3 असफलताओं को स्वीकार करना सीखें

गलतियाँ हर शुरुआत करनेवाला करता है, लेकिन सफल लोग उसे पहचानते हैं और उन्हें जल्दी ठीक करते हैं। अगर आप जीवन में असफल नहीं हो रहे हैं तो इसका मतलब आप कुछ नया नहीं कर रहे हैं; क्योंकि दूसरों के बनाए रास्ते पर चलना बहुत आसान है, लेकिन खुद का नया रास्ता बनाना और लोगों को रास्ता दिखाना बहुत ही कठिन है।

हर इनसान की तरह मस्क के जीवन में बहुत सी असफलताएँ आईं। उन्होंने उन असफलता को नजरअंदाज करते हुए, उन अवसरों को देखा, जो उनके पीछे छुपे थे और उन पर काम करते चले गए। जब उन्होंने पहली कंपनी बनाई तो उनके ही टीम मेंबर ने उन्हें निकाल दिया।

उन्होंने जब सोलर सिटी बनाई, बहुत सारे लोग, बहुत सारी कंपनी उनके खिलाफ  हो गए थे।  जब उन्होंने टेस्ला कार बनाने का सोचा तो वो  इतनी महंगी बन गई कि सामान्य लोग उसे अफोर्ड नहीं कर पाते, बाद उन्होंने उसकी कीमत को कम किया।

जब उन्होंने मंगल ग्रह पर जाने के लिए रॉकेट खरीदने के बारे में सोचा तो रॉकेट इतने ज्यादा महँगे थे कि मस्क उन्हें खरीद नहीं पाए। उन्होंने सेल्फ मेड रॉकेट बनाए।  उन्हें तीन बार असफलता मिली। उनकी सारी कंपनियाँ घाटे में जा रही थीं, इसलिए उन्होंने अपने सारे पैसे चौथे लॉञ्च पर लगा दिए और खुद किराए के घर में रहने लगे। उन्होंने अपना पूरा समय, पूरी ऊर्जा इस चीज पर लगा दी और अंततः सफल हुए।

4 पढ़ें और सीखें

हम जैसा सोचते हैं, जैसा सुनते हैं और सबसे ज्यादा—जैसा पढ़ते हैं, वैसा ही सोचने लगते हैं। पढ़ने से हमारी सोच सबसे ज्यादा विकसित होती है।

अपने व्यस्त जीवन में भी मस्क पढ़ने के लिए समय निकाल लेते हैं। उनके जीवन का निर्माण करने में पुस्तकों का बहुत बड़ा योगदान है। दस साल की उम्र तक उन्होंने बहुत सारी इनसाइक्लोपीडिया पढ़ ली थीं।

अच्छी किताबें हमेशा अच्छा मार्गदर्शन करती हैं। हमें अच्छा पढ़ने की सोच को अपने अंदर विकसित करना चाहिए, जो हमारे व्यक्तित्व के निर्माण में बहुत महत्त्वपूर्ण और असाधारण भूमिका निभाती हैं। 

5 बेहतर बनाने पर फोकस करें

इलोन ने दस से भी ज्यादा कंपनियाँ बनाई हैं, जिनमें से मुख्य हैं—पेपाल, स्पेसएक्स, टेस्ला, हायपरलुक, द बोरिंग कंपनी। कोई भी इनसान सिर्फ पैसे के लिए इन कंपनियाँ को बनाएगा, इतनी सारी समस्याओं का सामना करते हुए इन कंपनिकों को दुनिया की सफल कंपनी बनाए रखेगा, ऐसा संभव नहीं है।

अगर आप उनकी सारी कंपनियों को देखोगे तो उनमें एक चीज सामान्य मिलेगी कि उनका फोकस न तो पैसे कमाने में है, न ही अपनी कंपनी को ग्रेट बनाने में। उनका पूरा फोकस दुनिया को बदलने में था, पहले से बेहतर बनाने में था।

6 समय की कीमत

असाधारण और साधारण लोगों में एक ही अंतर होता है कि साधारण लोग केवल इतना ही काम करते हैं, जितना उनसे बोला जाता है या जितना उन्हें पैसा मिलता है; लेकिन असाधारण लोग उससे कुछ ज्यादा काम करते हैं और यही एक गुण उन्हें सफल बनाता है।

जब लोग 7 से 8 घंटे काम करके अपने घर चले जाते थे तो इलोन मस्क 15 से 18 घंटे लगातार काम करते थे जिससे वे सारी उपलब्धियाँ चार महीने में ही पूरा कर लेते जबकि उन्हें पाने में एक साल या कभी-कभी पाँच साल भी लग सकते थे ।

आप अपनी सोची गई सीमा से भी ज्यादा काम कर सकते हैं, जितना आपको लगता है कि आप इतना कर सकते हैं, उससे कहीं ज्यादा। आपको अपने समय को मैनेज करना आना चाहिए।

7 अपने काम से प्यार करें 

जिस काम को आप प्यार करते हैं, उसे इंजॉय करके करो। जब ऐसा करते हो तो उस काम में कितनी भी असफलता क्यों न हो, आप बीच में रुकना नहीं चाहोगे, उससे दूर नहीं जाना चाहोगे। इसी से आप सफलता प्राप्त कर सकते हो।

अगर आप कोई चीज इसलिए करते हैं, क्योंकि आप उसे प्यार करते हैं तो पैसा हमेशा वैकल्पिक होता है। पे-पाल से जाते वक्त, उन्होंने सोचा, ‘अच्छा! और कौन सी समस्याएँ हैं, जिनकी मानवता के भविष्य को प्रभावित करने की सबसे अधिक संभावना है?’ उन्होंने  इस नजरिए से नहीं सोचा कि ‘पैसा बनाने का सबसे अच्छा तरीका क्या है?’ 

ये भी पढ़ें :

तो दोस्तों इस आर्टिकल (7 Lessons from Elon Musk Life in Hindi | Elon Musk Success Story | Elon Musk Short Biography) में बस इतना ही आपको ये आर्टिकल (7 Lessons from Elon Musk Life in Hindi | Elon Musk Success Story | Elon Musk Short Biography) कैसी लगी हमें कमेन्ट कर के जरूर बताये। लेटेस्ट वीडियो को देखने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करना न भूले।

अपना बहुमूल्य समय देने के लिए आपका तहे दिल से शुक्रिया

Wish You All The Best

S.K. Choudhary

नमस्कार दोस्तों, हमारे इस ब्लॉग में आपका स्वागत है, मेरा नाम है S.K. Choudhary (ऐस. के. चौधरी) और मैं एक ब्लॉगर और यूटूबर हूँ। में एक प्राइवेट कंपनी में जॉब करता हूँ और मेरा highest एजुकेशन MBA Finance है। मुझे पढ़ने और पढ़ाने का शोख है इसलिए में पार्ट टाइम मैं ब्लॉग लिखता हूँ और यूट्यूब के लिए बुक समरी और मोटिवेशनल वीडियो बनता हूँ।

Leave a Comment