48 Laws of power in Hindi by Robert Greene (Shakti ke 48 Niyam), Part 1

48 Laws of power in Hindi by Robert Greene

48-Laws-of-power-in-Hindi-by-Robert-Greene

The 48 Laws of power Book Summary in Hindi by Robert Greene

आज मैं आपसे Robert Green, की बुक The 48 Law of Power की समरी आपसे शेयर करने वाला हूँ ये बहुत ही पॉवरफुल बुक है जिसे पढ़ कर आप ऐसे ऐसे ट्रिक्स जान पाएंगे जिससे आप खुद को शक्तिशाली बना सकते। दोस्तों इस आर्टिकल में मेने 21 लॉज़ को कवर किया है नेक्स्ट आर्टिकल में बांकी के बचे हुए लॉज़ को कवर करूँगा। तो चलिए शुरू करते है पहले लॉज़ से

LAW 1: अपने बॉस को कभी अपना टैलेंट और स्मार्टनेस न दिखाए

विषय सूची

दोस्तों अपने बॉस को या अपने से ऊपर वालों को ये बताये की वह हमेशा आपसे बेहतर है। उन्हें खुश या प्रभावित करने के लिए अपने हुनर को बहुत अधिक प्रदर्शित न करे क्योंकि ऐसा करने से वे आपको नुक्सान पहुँचा सकते हैं। आपके हुनर और काबिलियत से उनमे डर और असुरक्षा उत्पन्न हो सकती है। अपने मास्टरस को सदा ये महसूस कराये कि वह आपसे बेहतर और प्रतिभाषाली है और इस तरह आप कामयाबी की ऊंचाइयों को हासिल करेंगे।

LAW 3: अपने उद्देशयों को छुपाएँ

आप क्या चाहते हैं और क्या करने वाले हैं किसी से न बताएँ। अपनी ज़ुबान पर नियंत्रण रखने के लिए आपको मेहनत करनी होगी और लगातार अभ्यास करना होगा। दोस्तों समझदारी इसी में है कि आप लोगों से वही कहें जो वह सुनना चाहते हैं ना कि वह जो आप बोलना चाहते हैं। इसलिए यह बहुत ज़रूरी है कि आप अपने शब्दों का इस्तेमाल ध्यान से करें। जब लोगों को ये पता नहीं होता कि आप क्या करने वाले हैं तो वह आपके विरुद्ध कोई रणनीति नहीं बना सकते। जब तक वह आपके इरादों को समझ पाएंगे तब तक बहुत देर हो चुकी होगी।

LAW 4: कोशिश करे की आप कम से कम बोलें

आप हमेशा कोशिश करे कि कम से कम बोलें क्योंकि कम बोलने से लोग आपकी बात ज़्यादा सुनेंगे और अपने बारे में ज़्यादा बताएँगे। इससे आपको लोगों के बारे में जानकारी मिलेगी और उनकी सारी कमज़ोरियाँ पता चलेंगी जिसका इस्तेमाल बाद में आप उनके खिलाफ कर सकते हैं। जब आप लोगों को अपने शब्दों से प्रभावित करने की कोशिश करते हैं तो आप जितना ज़्यादा बोलते है उतने ही आप साधारण लगते हैं। अगर आप कुछ साधारण-सी बात कहते है लेकिन उसे अस्पष्ट और रहस्यपूर्ण रूप में कहने से लोगों का इंटरेस्ट आप में बना रहेगा। कम बोलने से आप नियंत्रण में रहेंगे और कुछ भी ग़लत बोलने से बचे रहेंगे। कामयाब और शक्तिशाली लोग हमेशा कम बोलकर लोगों को प्रभावित करते है।

Shakti ke 48 Niyam

Shakti ke 48 Niyam

LAW 9: दूसरों को अपने काम से जीतें अपने आर्ग्यूमेंट्स से नहीं

आपके बॉस या बड़े अधिकारी इस बात की परवाह नहीं करते कि आप सही है या गलत, वह तो सिर्फ़ आप से अपनी बात मनवाना चाहते हैं। शक्तिशाली लोग अपनी बात ना मानने पर किसी को भी नुकसान पहुँचा सकते हैं। इसलिए अपने बॉस से या ऊपर वालों से कभी आर्ग्यूमेंट्स या बहस ना करें, उनके साथ सदा सहमति जतायें और अपने काम से उनका दिल जीतने की कोशिश करें ना कि अपने शब्दों से।

LAW 11: लोगों को अपने ऊपर निर्भर रखना सीखें

लोगों को अपने ऊपर निर्भर करके रखें इससे उनकी नजरों में आप की अहमियत बनी रहेगी। दुनिया में हर व्यक्ति ज़रूरत के हिसाब से काम करता है और उसी को संपर्क करता है जिसकी उसे ज़रूरत होती है । दोस्तों लोग जिस व्यक्ति पर निर्भर होते हैं उसी को अहमियत देते हैं। शक्तिशाली बनने के लिए ज़रूरी है कि आप लोगों को अपने ऊपर निर्भर करना सीखें।

LAW 12: अपनी ईमानदारी और उदारता से अपने शिकार को वश में करें

दोस्तों रॉबर्ट ग्रीन कहते हैं कि आप अपनी ईमानदारी और उदारता से किसी भी व्यक्ति को अपने वश में कर सकते हैं। जब आप लोगों को अपनी ईमानदारी और उदारता दिखाएंगे तो वह लोग जो जल्दी किसी पर यकीन नहीं करते वह भी आप पर यकीन करने लगेंगे। यह Law कहता है कि आप शुरू में बेहद ईमानदारी और उदारता दिखाएँ और जब दूसरा व्यक्ति आप पर यकीन करने लगे तो आप जैसे चाहें उसे धोखा दे सकते हैं या हेरा फेरी कर सकते हैं। आपकी ईमानदारी किसी भी व्यक्ति के शक के सुरक्षा कवच को भेद सकती है

LAW 13: जब आप किसी से मदद मांगे तो उनके Self Interest का ध्यान रखे

अगर आप किसी से मदद चाहते हैं और उन्हें यह बताते हैं कि आपने अभी तक उनके लिए क्या-क्या किया है तो मदद करने की बजाय वह आपको नजरअंदाज कर सकते हैं। अगर आप उन्हें कुछ ऐसा ऑफर करेंगे जिसकी उन्हें इस समय ज़रूरत है तो निश्चित ही वह आपकी मदद करने को तैयार हो जाएंगे क्योंकि लोग स्वार्थी होते हैं और मदद के बदले कुछ ना कुछ चाहते हैं खास तौर पर वह जिसकी उन्हें इस समय ज़रूरत हो

LAW 15: अपने दुश्मन को पूरी तरह कुचल दे

अपने दुश्मन को पूरी तरह खत्म कर दें। प्राचीन भारत के मशहूर दार्शनिक कौटिल्य कहते हैं कि दुश्मन के अवशेष आग और बीमारी की तरह होते हैं। अपने दुश्मन को कमजोर समझकर कभी भी नजरअंदाज ना करें क्योंकि वक्त के साथ-साथ वह और भी खतरनाक बन जाता है। कौटिल्य कहते हैं कि दुश्मन सूखी घास के ढेर में अंगारे की तरह होता है जो सुलग कर पूरी घास को जला सकता है। अब आप सोच रहे होंगे कि मैं कोई मिलिट्री का सैनिक नहीं हूँ यहाँ कोई युद्ध का योद्धा नहीं हूँ तो मैं अपने दुश्मन को कैसे मार सकता हूँ। इस Law का मतलब यह नहीं है कि आप अपने दुश्मन का कत्ल कर दें। असल में यहाँ दुश्मन का अभिप्राय आपके प्रतियोगियों से है। इसका मतलब यह है कि आप अपने प्रतियोगी पर हमेशा हावी रहे

48 Laws of power in Hindi by Robert Greene

48-Laws-of-power-in-Hindi-by-Robert-Greene

48 Laws of power in Book Summary in Hindi by Robert Greene

LAW 16: प्रतिष्ठा और आदर बढ़ाने के लिए अपनी अनुपस्थिति का प्रयोग करें

जितना आप लोगों को नजर आएंगे और सुने जाएंगे उतने ही साधारण लगेंगे। किसी भी प्रसंग की शुरूआत में आपको अपनी उपस्थिति को बढ़ाना होगा क्योंकि अगर आप बहुत जल्दी गायब हो जाते हैं तो भुला दिए जाएंगे। जब आपके प्रेमी के मन में आपके प्रति प्रेम की भावनाएँ जाग जाएँ तो आपकी अनुपस्थिति उसे और बढ़ा देगी। दूसरों की नजरों में अपना आदर और सम्मान बढ़ाने के लिए अपनी अनुपस्थिति को आप एक शक्तिशाली हथियार की तरह इस्तेमाल कर सकते हैं। दोस्तों जहाँ आप की उपस्थिति ज़्यादा होगी वहाँ लोग आपको नजर-अंदाज कर सकते हैं इसलिए अपनी प्रतिष्ठा और आदर को बढ़ाने के लिए और बनाए रखने के लिए अपनी अनुपस्थिति का प्रयोग करना सीखें।

LAW 20: किसी से कमिटमेंट ना करें

आप किसी से कोई कमिटमेंट ना करें क्योंकि जब आप किसी से कोई वादा करते हैं तो आप उसे पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध हो जाते हैं। जिससे आप कमिटमेंट करते हैं आपका नियंत्रण उसके हाथ में चला जाता है। आपको अपनी छवि मजबूत बनानी चाहिए ताकि लोग खुद आपसे संपर्क करने की कोशिश करें। किसी से कमिटमेंट करने का मतलब है अपने आप को उनके हवाले कर देना। ऐसा करने से आपका कर्त्तव्य बढ़ जाता है और खुद पर नियंत्रण कम हो जाता है। इसलिए दोस्तों शक्तिशाली बनने के लिए यह ज़रूरी है कि आप कभी किसी से पक्का वादा ना करें और खुद की एक मजबूत छवि बनाने की कोशिश करें ताकि आप खुद पर नियंत्रण रख सकें और लोग अपने काम के लिए खुद आपसे संपर्क करें।

LAW 21: लोगों को उन्हीं की तरह बन कर फसाएँ

दोस्तों दूसरों के सामने कोई भी मूर्ख नहीं दिखना चाहता। रॉबर्ट ग्रीन हमें बताते हैं कि आप अपने प्रतियोगी को हमेशा होशियार समझने का मौका दे। सिर्फ़ होशियार ही नहीं बल्कि आप से अधिक होशियार। एक बार आपके प्रतियोगियों को यकीन हो गया कि वह आपसे अधिक स्मार्ट है तो उन्हें कभी नहीं लगेगा कि आपके कोई गुप्त उद्देश्य हैं।

अपने प्रतिद्वंद्वी को मिस गाइड करना यानी अपने उद्देश्य से बहकाना एक बहुत अच्छी तरकीब है। अपने प्रतियोगियों के सामने बेवकूफ बन कर रहे और उन्हें यह दिखाएँ जैसे आप कुछ नहीं जानते, ऐसा करने से लोग आपको अपने बारे में खुद बताएंगे क्योंकि आज के युग में प्रत्येक व्यक्ति अपने बारे में दूसरों को बताना चाहता है। इससे लोग आप पर शक नहीं करेंगे और यह नहीं जान पाएंगे कि आप कितने शक्तिशाली हैं। आप अपने बारे में किसी को भी पहली मुलाकात में सब कुछ ना बताएँ, ऐसा करना आपके लिए बेवकूफी साबित हो सकती है।

LAW 22: आत्मसमर्पण की युक्ति इस्तेमाल करें

जब आप कमजोर हो तो अपने स्वाभिमान के लिए लड़े नहीं बल्कि आत्मसमर्पण कर दे। आत्मसमर्पण करने से आपको अपनी ताकत जुटाने का वक्त मिलेगा और आप फिर से लड़ने के लिए तैयार हो जायेंगे। अगर आप कमज़ोरी की अवस्था में लडेंगे तो आपका दुश्मन आप पर जीत हासिल करेगा और संतुष्ट हो जाएगा। इससे पहले कि आप हार जाए आप आत्मसमर्पण करें क्योंकि ऐसा करने पर आप दुश्मन तक पहुँच पाएंगे और उसके बारे में जानकारी हासिल करेंगे। दोस्तों हमें कभी भी कमज़ोरी की अवस्था में लड़ना नहीं चाहिए बल्कि आत्मसमर्पण करके अपने आप को तैयार करना चाहिए फिर चाहे वह जंग का मैदान हो या रोज़मर्रा कि ज़िन्दगी। आत्मसमर्पण करके हम अपनी कमज़ोरी को ताकत में बदल सकते हैं।

LAW: 23 अपनी शक्तियों को केंद्रित करें

दोस्तों अगर आपका ध्यान एक लक्ष्य पर नहीं है तो यह Law खास तौर पर आपके लिए है। कुछ लोगों को अपना ध्यान एक काम पर लगाने में मुश्किल होती है, जब भी वह अपना ध्यान किसी काम में लगाने की कोशिश करते हैं तो सैकड़ों और चीजें उनका ध्यान अपनी तरफ आकर्षित करती हैं। इसका समाधान यह है कि हमें अपने विचारों और कार्यों को केंद्रित करना चाहिए और अपना सारा ध्यान एक दिशा में लगाना चाहिए। कुछ लोग बार-बार अपने कार्य के क्षेत्र को बदलते रहते हैं जिससे उन्हें किसी भी क्षेत्र में सफलता नहीं मिलती। इससे बेहतर यह है कि किसी एक क्षेत्र में ध्यान लगाएँ जो आपकी रूचि और काबिलियत के मुताबिक सबसे अच्छा हो और उसी क्षेत्र में लगातार मेहनत करें। ऐसा करने से आपकी सारी ताकत और ऊर्जा एक ही कार्य में केंद्रित होगी और आप सफलता कि सीढ़ी पर चढ़ते जाएंगे।

LAW 34– राजा कि तरह नजर आए

Law 34 कहता है कि आप जिस तरह लोगों को नज़र आएंगे लोग उसी तरह आपके साथ व्यवहार करेंगे। अगर आप असभ्य और साधारण दिखेंगे तो लोग आपका आदर नहीं करेंगे। राजा लोग खुद अपना आदर करते हैं और दूसरों को भी ऐसा करने के लिए प्रेरित करते हैं। अगर आप खुद का सम्मान करेंगे तो वह आपके व्यवहार में नज़र आएगा। दोस्तों रॉयल बनने के लिए यहाँ मैं आपको तीन बातें बताऊंगा

  • पहली बात–आपको जो भी चाहिए उसे पूरे आत्मविश्वास और साहस के साथ मांगे।
  • दूसरी बात–बड़े-बड़े लोगों के साथ संपर्क बनाएँ और यह दिखाएँ कि आप उनके बराबर हैं।
  • तीसरी बात–अपने से बड़े लोगों को तोहफा दे, यह दिखाने के लिए कि आप उनकी बराबरी कर सकते हैं।

अपनी कीमत हमेशा ज़्यादा रखें, क्योंकि अगर आप कम मांगेंगे तो आपको हमेशा कम ही मिलेगा। जब आप अपने लिए बड़ी कीमत निर्धारित करेंगे तो आप एक राजा कि तरह बड़े नजर आएंगे क्योंकि बड़े लोग कम कीमत में काम नहीं करते। ऐसा करने से लोगों को आपका आत्मविश्वास दिखेगा और वह आप का सम्मान करेंगे।

LAW 35: समय के प्रबंधन की कला को सीखें

जल्दबाजी में कभी कोई कार्य न करें क्योंकि जल्दबाजी में काम करने से आपका खुद पर और समय पर कोई नियंत्रण नहीं रहता। हमेशा धीरज रखें और धैर्य से काम ले जैसे कि आपको पूरा विश्वास हो कि हर चीज सही समय पर आपके पास आ जाएगी। अक्सर हम इसलिए काम करते हैं क्योंकि हम उस काम को करना चाहते हैं या फिर मौजूदा परिस्थितियाँ हमें वह काम करने के लिए मजबूर करती हैं। लेकिन हर काम को करने के लिए एक सही समय होता है।

हमें किसी भी कार्य को करने के लिए सही समय का इंतजार करना चाहिए। हमें धैर्य से काम लेना चाहिए और किसी भी कार्य को जल्दबाजी में नहीं करना चाहिए। दोस्तों यहाँ मैं ऐसा नहीं कह रहा कि हम किसी कार्य को करने में इतनी देर कर दें कि उसे करने का सही समय निकल जाए। हमें ना तो कोई कार्य जल्दबाजी में करना चाहिए और ना भी बहुत देरी से। हमें उसे सही समय पर करना चाहिए इसलिए यह बहुत ज़रूरी है कि हम समय के प्रबंधन की कला को सीख ले। कामयाब होने में और शक्तिशाली बनने में समय का प्रबंधन एक बहुत ताकतवर हथियार की तरह काम करता है।

वह उतना ही आपको परेशान करेगा, इसलिए बेहतर होगा कि ऐसे व्यक्ति से एक दूरी बनाकर रखें।

LAW 38: आप जैसे चाहे सोचे पर दूसरों की तरह व्यवहार करें

अगर आप आज के जमाने के साथ नहीं चलेंगे और लोगों को अपने परंपरागत विचार बताएंगे तो उन्हें लगेगा कि आप सिर्फ़ उनका ध्यान आकर्षित करना चाहते हैं। ऐसा करने पर लोग आपके विचारों से सहमत नहीं होंगे और वे आप को नुकसान पहुँचा सकते हैं। इसलिए सुरक्षित तरीका यही है कि आप लोगों से वही कहें जो वह सुनना चाहते हैं और उन्हें वही दिखाएँ जो वह देखना चाहते हैं।

अपने विचार सिर्फ़ उन लोगों को बताएँ जो उन में विश्वास करते हैं। धोखा देने की कला कितनी शक्तिशाली हो सकती है। जैसे एक गिरगिट इर्द गिर्द के वातावरण के हिसाब से अपना रंग बदलता है और सही मौका देखकर अपने शिकार पर आक्रमण करता है उसी तरह शक्तिशाली बनने के लिए यह ज़रूरी है कि आप अपने आसपास के माहौल में ढल कर रहे। दोस्तों यह law हमें बताता है कि ऐसे विचारों को प्रकट करने का कोई फायदा नहीं है जो हमारे लिए खतरा पैदा कर दें। ऐसे विचारों को दबाकर रखने में ही समझदारी है।

LAW 39: मछली पकड़ने के लिए पानी में हड़कंप मचाएँ

दोस्तों Law 39 कहता है कि गुस्सा किसी भी समस्या का समाधान नहीं है। इसलिए हमें सदा शांत रहना चाहिए। कुछ लोगों को गुस्सा बहुत जल्दी आता है, वह किसी के भी उकसाने पर बहुत जल्दी भड़क जाते हैं। दोस्तों यहाँ मछली का अभिप्राय आपके प्रतियोगियों और दुश्मनों से है और पानी का मतलब आपके प्रतियोगियों की भावनाएँ हैं। अगर आप अपने दुश्मन को उकसा कर या गुस्सा दिला कर खुद शांत रह सकते हैं तो आप उस का फायदा उठा सकते हैं। दोस्तों जब आपका दुश्मन बहुत गुस्से में हो ऐसे हालात में शांत रहना ही सबसे अच्छी तरकीब है।

ये Law हमें बताता है कि जब पानी स्थिर होता है यानी आप का दुश्मन शांत होता है तो उसके पास योजना बनाने के लिए और आक्रमण करने के लिए समय होता है और वह अपने नियंत्रण में रहता है, यह आपके लिए नुकसानदायक हो सकता है। दोस्तों आप दुश्मन को कदम उठाने के लिए उकसाए वह भी उस समय जब वह लड़ने के लिए तैयार ना हो। ऐसा करने से वह निश्चित तौर पर ग़लत कदम उठाएगा और उसका फायदा आपको होगा। दुश्मन की ऐसी भावनाओं को जगाएँ जिन पर उसका नियंत्रण ना हो जैसे कि प्यार, गर्व, घमंड और क्रोध क्योंकि ऐसा करने से वह कोई ना कोई ग़लत कदम उठाएगा और निश्चित तौर पर अंत में जीत आपकी ही होगी।

LAW 40: मुफ्त में मिलने वाली चीजों का तिरस्कार करें

दोस्तों मुफ्त में मिलने वाली कोई भी चीज खतरनाक होती है। जब कोई आपको मुफ्त में कुछ देने की कोशिश करता है तो इसके पीछे उसकी कोई गुप्त तरकीब या गुप्त उद्देशय हो सकता है। अगर कोई आपको मुफ्त उपहार देता है तो आप उसके कर्ज़ के नीचे दब जाते हैं। आप तोहफा देने वाले व्यक्ति के सामने छोटे नजर आते हैं और आप उन्हें किसी कार्य के लिए मना नहीं कर सकते। जब कोई व्यक्ति हमें मुफ्त में कोई तोहफा देता है तो वह उसके बदले में हमसे कुछ न कुछ ज़रूर चाहता है। ऐसा प्रत्येक व्यक्ति में स्वाभाविक तौर पर होता है। आप तोहफा देने वाले व्यक्ति के एहसान तले दब जाते हैं और वह व्यक्ति अप्रत्यक्ष रूप से उस एहसान के बदले में आपसे कुछ ना कुछ मांगेगा।

अगर कोई व्यक्ति आपको मुफ्त में कुछ देता है तो आप उसकी कीमत अदा करें। ऐसा करने से आप तोहफा देने वाले के एहसान से बचे रहेंगे और आप उन्हें किसी कार्य के लिए मना भी कर सकते हैं। शक्तिशाली लोग दूसरों से प्रभावित नहीं होते बल्कि उन्हें प्रभावित करते हैं। अगर आप अपने दोस्तों के साथ बाहर जाते हैं तो उनका खर्च कराने की बजाय आप खुद उनके लिए पैसे खर्च करें। ऐसा करने से आप स्वतंत्र और नियंत्रण में रहेंगे और किसी के एहसान से बचे रहेंगे। अगर आप लोगों के एहसान और नियंत्रण से बचना चाहते हैं तो उनसे कोई भी चीज मुफ्त में ना लें बल्कि अपनी तरफ से आप जो दे सकते हैं उन्हें दे। दोस्तों अगर आप जीवन में स्वतंत्र रहना चाहते हैं तो इस लॉ का पालन करना अच्छी तरह सीख ले।

LAW 43: लोगों के दिल और दिमाग को नियंत्रित करें

Law-43 कहता है कि प्रोत्साहन और प्रलोभन किसी जंग को जीतने का सबसे अच्छा तरीका है। अगर आप किसी पर शक्ति का उपयोग करके जीतते हैं तो उनकी नाराज़गी समय के साथ नफरत का रूप ले लेती है और आप का उन पर कोई नियंत्रण नहीं रहता। आपको लोगों को अपने रास्ते पर लाने के लिए उन्हें बहकाना होगा। जिस व्यक्ति को आप बहकाते हैं वह आपका एक वफादार मोहरा बन जाता है। दोस्तों लोगों को बहकाने के लिए आपको उनके मनोविज्ञान और कमजोरियों का पता होना चाहिए। लोगों को बहकाने के लिए आपको उनकी भावनाओं पर काम करना होगा। यह लॉ कहता है कि हमें अपने शत्रुओं और प्रतियोगियों को जीतने के लिए प्रोत्साहन और प्रलोभन का इस्तेमाल करना चाहिए। ऐसा करने से आप लोगों की दिल और दिमाग को नियंत्रित कर पाएंगे और उनसे जो चाहे वह काम करवा सकेंगे।

LAW 47: अपनी जीत के लक्ष्य से ज़्यादा आगे न जाएँ

दोस्तों जीत की घड़ी अक्सर जोखिम की घड़ी होती है। जीत की खुशी में आपकी उद्दंडता और आपका आत्मविश्वास आपको ज़्यादा आगे बढ़ने पर मजबूर कर देता है। आपके लगातार आगे बढ़ते रहने से आपके बहुत से नए दुश्मन बन जाते हैं। दोस्तों जीत हासिल करने के बाद आपको विराम लेना चाहिए और सावधानी से अगले लक्ष्य की योजना बनानी चाहिए। कामयाब होने के लिए ज़रूरी है आप एक लक्ष्य हासिल करने के बाद विराम ले, लोगों और अपने प्रतियोगियों की प्रतिक्रिया को समझें।

इस बात के लिए तैयार रहे कि कामयाब होने के बाद आपके प्रतियोगी आपके खिलाफ कोई ना कोई योजना ज़रूर बनाएँगे। शक्तिशाली लोग हमेशा एक योजना से काम नहीं करते वे परिस्थितियों के हिसाब से अपनी योजनाओं को बदलते रहते हैं और लगातार अपने आप को बेहतर बनाने की कोशिश करते हैं। ऐसा करने से उनके प्रतियोगी उनकी योजनाओं को नहीं समझ पाते और वे अपना अगला लक्ष्य हासिल करने में कामयाब होते हैं।

LAW 48: निराकार बन कर रहें

ब्रूस ली ने कहा था कि हमें पानी की तरह निराकार होना चाहिए। जिस तरह पानी बर्तन का आकार ले लेता है उस तरह व्यक्ति को परिस्थितियों के अनुसार आकार ले लेना चाहिए। निराकार व्यक्ति सदा अपने आपको परिस्थितियों के अनुसार ढाल लेता है जिससे वह आने वाले खतरों से बचा रहता है। दोस्तों अगर आप शक्तिशाली बनना चाहते हैं तो आपको एक ही योजना के अनुसार कभी नहीं चलना चाहिए। आपको समय और परिस्थितियों के अनुसार अपनी योजनाओं को बदलते रहना चाहिए। ऐसा करने से आप दुश्मनों की योजनाओं को जान पाएंगे और उनसे लड़ने के लिए अपने आप को तैयार कर पाएंगे। कामयाब और शक्तिशाली बनने के लिए यह ज़रूरी है कि आप निराकार बनना सीखें।

ये भी पढ़ें :

तो दोस्तों इस आर्टिकल में मेने 21 Laws कवर किया है अगर आपको ये आर्टिकल पसंद आता है तो नेक्स्ट आर्टिकल में बांकी के बचे हुए लॉज़ को कवर करूँगा। अगर आप इस बुक का कम्पलीट वीडियो समरी देखना चाहते है तो ऊपर दिए लिंक से देख सकते है।

यदि आपके पास हिंदी में कोई article, business idea, inspirational story या जानकारी है जो आप हमारे साथ साझा करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें। हमारी Id है: storyshala@gmail.com पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ पब्लिश करेंगे।

अपना बहुमूल्य समय देने के लिए आपका तहे दिल से शुक्रिया

Wish You All The Best

BUY BOOK: The 48 Laws Of Power by Robert Greene

BUY BOOK: Shakti Ke 48 Niyam By Robert Green

S.K. Choudhary

नमस्कार दोस्तों, हमारे इस ब्लॉग में आपका स्वागत है, मेरा नाम है S.K. Choudhary (ऐस. के. चौधरी) और मैं एक ब्लॉगर और यूटूबर हूँ। में एक प्राइवेट कंपनी में जॉब करता हूँ और मेरा highest एजुकेशन MBA Finance है। मुझे पढ़ने और पढ़ाने का शोख है इसलिए में पार्ट टाइम मैं ब्लॉग लिखता हूँ और यूट्यूब के लिए बुक समरी और मोटिवेशनल वीडियो बनता हूँ।

Leave a Comment