Kisi Bhee Kaam ko pure Focus ke Sath Kaise Kare – Deep Work Book Summary In Hindi

दोस्तों इस लेख (Kisi Bhee Kaam ko pure Focus ke Sath Kaise Kare – Deep Work Book Summary In Hindi) के माध्यम से में आपसे आज कैल न्यूपोर्ट की बुक Deep Work ki Summary आपसे साझा करूँगा। Deep Work Book Summary in Hindi को पढ़ने के बाद, आप आपने वर्क को कम टाइम में पूरा कर सकते हैं, और अपनी प्रोडक्टविटी बढ़ा सकते हैं। तो चलिए शुरू करते है।

दोस्तों सबसे पहले समझते हैं कि Deep Work Kya Hota Hai (क्या होता हैं)। Deep Work का मतलब बिना किसी डिसट्रेक्शन के पूरे फोकस के साथ काम करने से है और इसका अपोजिट है शैलो वर्क। शैलो वर्क वह हैं जिसमे आपका ब्रेन ज़्यादा यूज नहीं होता जिससे आप लेज़ी होके काम करते है। ऐसे काम करते हुए आप बार-बार डिस्ट्रक्ट होते हैं।

Deep Work In Hindi

अगर आप Deep Work करते हैं तो आपका स्किल्स इम्प्रूव हो जायेगा और आप कम टाइम में ज़्यादा प्रोडक्टिव वर्क कर पाएंगे। अगर आप सोसाइटी में अपना एक महत्त्वपूर्ण जगह बनाना चाहते है तो आपको ये दो चीज़े करनी पड़ेगी। :

  • हार्ड टास्क को लर्न की एबिलिटी को बढ़ाना होगा
  • इम्पोर्टेंट टास्क को क्वालिटी और स्पीड के साथ कम्पलीट करने की एबिलिटी को बढ़ाना होगा।

Deep Work एक स्किल है

दोस्तों डीप वर्क एक स्किल्स हैं जिससे प्रैक्टिस से सीखा जा सकता हैं। शुरुआत में आपको फोकस करने में परेशानी आएगी पर जब आप इसमें मास्टर हो जायेंगे तो कठिन टास्क को आसानी से कम समय में कर लेंगे। तो चलिए अब 4 रूल्स ऑफ़ डीप वर्क क्या हैं जानते हैं।

Deep Work by Cal Newport Book Summary in Hindi

Rule No. 1 Work Deeply

डीप वर्क की हैबिट डेवलप करने का सीक्रेट है कि आप अपने डेली वर्किंग लाइफ में वह रूटीन्स और स्टेप्स ऐड करे जो इस तरह डीजाइन किये गए हो जो आपके विल पॉवर को मिनिमम अमाउंट में यूज़ करके आपको एक ऐसे स्टेट ऑफ़ माइंड में रखे जिसमे आपका कंसंट्रेशन टूटे नहीं। क्योंकि विल पॉवर तो एक लैपटॉप बैटरी की तरह ही है जो टाइम के साथ कम होता जाता है।

दोस्तों यहाँ ऑथर हमें डीप वर्क करने के 4 तरीके बताते हैं जिसमे से आप किसी एक को चूज कर सकते हैं।

1. मानस्टिक एप्रोच (Manastich Approach)

इस एप्रोच में आपको दुनिया से खुद को अलग रखना होता है। आपको ऐसे जगह जाके काम करना होता हैं जहा किसी भी तरह का कोई डिस्ट्रक्शन नहीं हो एक दम एक मोंक की तरह। दोस्तों बिल ग्रेट इसका एक्साम्पल है वह साल में 2 बात 1 वीक के लिए खुद को दुनिया से अलग कर लेते हैं और लेटेस्ट टेक्नोलॉजी के बारें में सोचते हैं।

2. बिमोड्ल अप्रोच (Bimodal Approach)

ये स्ट्रेटेजी उनके लिए है जो खुद को पूरी तरह दुनिया से अलग नहीं रख सकते। इस फिलोसफी के हिसाब से आपको अपना टाइम डिवाइड करना है, जिसमे से कुछ टाइम स्लॉट सिर्फ़ उन कामो को देना है जो आपके लिए सबसे ज़्यादा इम्पोर्टेंट है और बाकी टाइम में अपने दुसरे कामो को दीजिये। जैसे कि आप अपने रूम में 2 घंटे के लिए पढने चले जाये और आपने फ़ोन स्विच ऑफ कर के रखेँ जिससे आपको कोई डिसट्रेकशन नहीं हो। 2 घंटे बाद फिर आप अपने रूम से बाहर आकर 1 घंटे के लिए फिर से नार्मल लाइफ जी सकते हैं। ये बिमोड्ल फिलोसफी इस बात पर बीलीव करती है कि डीप वर्क से एक्सट्रीम प्रोडक्टीवीटी अचीव की जा सकती है।

दोस्तों इसका एक्साम्पल है जे के रोलिंग है जिन्हे हैरी पॉटर बुक सीरीज पूरा करने के लिए खुद को कुछ दिनों के लिए होटल रहना पढ़ा।

3. रिदमिक (RHYTHMIC)

दोस्तों इस मेथड को द चेन मेथड भी कहा जाता है। इस मेथड को अप्लाई करने के लिए हर दिन कोई एक खास एक्टिविटी करने के लिए एक खास टाइम चूज़ करना हैं और हर रोज़ जब भी आप अपना वह टास्क खत्म कर ले आपको केलेंडर पर एक बड़ा-सा रेड क्रोस लगाना है। ये तब तक करते रहे जब तक कि आप रेड क्रोसेस की चेन बढती हुई ना देख ले और ध्यान रहे कि ये चेन कटनी नहीं चाहिए।

4. जर्नलिस्टिक एप्रोच (Journalistic Approach)

जब आप बहुत बीजी होते है तो इस अप्रोच को फॉलो कर सकते है। इसमें आप किसी जर्नलिस्ट की तरह एक्ट कीजिये और जैसे ही आपको फ्री टाइम मिले चाहे वह आधा घंटा ही क्यों न हो तो उस आधे घंटे में आप डीप वर्क कीजिये। इसका मतलब है कि अगर आपको पता है कि आप 1 से 1: 30 के बिच फ्री रहने वाले है तो अपना मोबाइल स्विच ऑफ कर दे और किसी आइसोलेट जगह पर अपने इम्पोर्टेंट टास्क पूरा करने बैठ जाइये।

Deep Work In Hindi

Deep Work Book Summary In Hindi

Rule No. 2 बोरडम को गले लगाए

जैसे एक एथलीट ट्रेनिंग सेशन के बाद आपने बॉडी को फिट रखने के लिए एक्सरसाइज करते हैं वैसे ही डीप वर्क के अलावा आपको अपने कंसंट्रेशन पर ध्यान देना चाहिए। यदि आप दिन में बोरियत फील करते है तो आपका कंसंट्रेशन भंग हो जायेगा और आप डीप वर्क स्किल को डेवेलप करने में स्ट्रगल करेंगे। इसका सोलुअशन ये है कि आप-आप बोरियत को गले लगा लीजिये आपने इनबॉक्स को बार-बार चेक करना बंद कीजिये, मोबाइल के निटिफिकेशन को बार-बार चेक करना बंद कीजिये और जहा तक पॉसिबल हो खुद को डिस्ट्रिक्शन से बचने का ट्रेनिंग दीजिये।

आईये इसे एक एक्साम्पल से समझते हैं।

एक ज्यूइश आदमी था जो हर सुबह उठकर अपनी रिलीजीयस बुक पढता था। बार-बार एक ही बुक को इस तरह पढने से उसका दिमाग इस तरह ट्रेंड हो गया था कि वह पूरी कोंसंट्रेशन के साथ हर रोज़ वह किताब पढता था। दोस्तों, कोंसनट्रेशन इसी तरह प्रेक्टिस करके अचीव की जा सकती है। हम सब में ये एबिलिटी है मगर हम ट्राई नहीं करना चाहते है।

और पढ़ें : Brain Rules Book Summary in Hindi by John Medina

Rule No. 3 सोशल मीडिया छोड़ दे

सोशल मीडिया शैलो लाइफ यानी उथले जीवन जीने का प्राइम एक्साम्पल हैं। जैसा कि कैल बताते हैं, सोशल मीडिया से हमें थोड़ा बहुत बेनिफिट मिलता है लेकिन इसका मतलब ये नहीं है कि हम अपना सारा टाइम इस्पे बर्बाद कर दे और जैसा कि आप जानते हैं कि सोशल मीडिया अडिक्टिव नेचर का होता है इसलिए सोशल मीडिया और डीप वर्क एक साथ आप नहीं कर सकते

आईये इसे एक एक्साम्पल से समझते हैं

Baratunde Thurston “बाराटुंडे थ्रस्टन” को उसके दोस्त “वर्ल्ड का सबसे ज़्यादा कनेक्टेड इंसान” के नाम-नाम से बुलाते थे। उसने 25 डेज़ के लिए अपनी ऑनलाइन लाइफ छोड़ने का फैसला किया। फर्स्ट वीक के बाद ही उसे इसकी आदत पड़ने लगी। उसके लाइफ की पेस स्लो डाउन हो गयी थी मगर फिर जब 25 डेज़ गुजर गए वह फिर से ऑनलाइन रहने लगा और इस बार पहले से भी ज्यादा। तो, किसी भी चीज़ को एकदम छोड़ना पॉसिबल नहीं है और ना ही ये एक सोल्यूशन है। इससे अच्छा है कि आप इन्टरनेट को आज की लाइफ की ज़रुरत समझते हुए यूज़ करते रहे। कभी-कभी इसका फायदा भी होता है। (Deep Work Book Summary In Hindi)

आमतौर पर एक आदमी दिनभर में 8 घंटे काम करता है। जिसका मतलब है कि 16 घंटे वह फ्री होता है। तो ये टाइम सिर्फ़ इन्टरनेट पर सर्फिंग करने में वेस्ट क्यों करे इससे तो अच्छा है कि सेल्फ डेवलपमेंट के लिए कोई स्किल्स सीख ले

Deep Work In Hindi

Rule No. 4 ड्रेन द शैलो

दोस्तों मेने आपको पहले बताया था कि शैलो वर्क क्या होता हैं अगर आप भूल गए हो तो फिर से में रिपीट कर देता हूँ। शैलो वर्क वह हैं जिसमे आपका ब्रेन ज़्यादा यूज नहीं होता जिससे आप लेज़ी होके काम करते है । ऐसे काम करते हुए आप बार-बार डिस्ट्रक्ट होते हैं और इस तरह के काम का एक्साम्पल हैं अंनिसेसरि ईमेल का जबाब देना, घंटों फ़ोन से चिपके रहना, अंनिसेसरि ऐसे मीटिंग्स में जाना जो आपके काम में वैल्यू ऐड नहीं करता हो। अगर आप प्रोडक्टिव बनाना चाहते हैं तो-तो ऐसे वर्क को आपको कम करना होगा (Deep Work Book Summary In Hindi)

आईये इसे एक एक्साम्पल से समझते हैं

“37 सिग्नल्स” नामकी एक कंपनी ने अपने वर्किंग डेज़ 5 से 4 कर लिए थे और फिर भी उसके प्रोडक्शन में कोई फर्क नहीं आया। कुछ लोग आर्ग्यु करेंगे कि भला ऐसा कैसे हो सकता है? ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि इस कंपनी के एम्प्लोयीज़ ने अपने काम फिनिश करने के लिए टाइम को बहुत इम्पोर्टेंस दी, उन्होंने अपने काम से शैलो वर्क को लगभग पूरी तरह एलीमिनेट करके रख दिया था और जब आप शैलो वर्क को डीप वर्क से रीप्लेस करते है तो आप देखेंगे कि कैसे आपको एक्स्ट्राऑरडीनेरी रिजल्ट्स मिलते है। (Deep Work Book Summary In Hindi)

और स्टडीज़ में देखा गया है कि डीप वर्क करने के लिए 4 घंटे मैक्सिमम टाइम है, हाँ, रेयर इंडीविजुएल्स की बात अलग है अगर आप डीप वर्क करते है तो आप 4 घंटे में ही वह अचीव कर लेंगे जो बाकी लोग 8 घंटे में अचीव करते है। (Deep Work Book Summary In Hindi)

तो दोस्तों इस आर्टिकल (Kisi Bhee Kaam ko pure Focus ke Sath Kaise Kare – Deep Work Summary In Hindi) में बस इतना ही आपको ये आर्टिकल (Deep Work Book Summary In Hindi) कैसी लगी हमें कमेन्ट कर के जरूर बताये। अगर आप इस बुक का कम्पलीट वीडियो समरी देखना चाहते है तो ऊपर दिए लिंक से देख सकते है। हमारे लेटेस्ट वीडियो को देखने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करना न भूले।

यदि आपके पास हिंदी में कोई article, business idea, inspirational story या जानकारी है जो आप हमारे साथ साझा करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें। हमारी Id है: storyshala@gmail.com पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ पब्लिश करेंगे.

अपना बहुमूल्य समय देने के लिए आपका तहे दिल से शुक्रिया

 Wish You All The Best

S.K. Choudhary

नमस्कार दोस्तों, हमारे इस ब्लॉग में आपका स्वागत है, मेरा नाम है S.K. Choudhary (ऐस. के. चौधरी) और मैं एक ब्लॉगर और यूटूबर हूँ। में एक प्राइवेट कंपनी में जॉब करता हूँ और मेरा highest एजुकेशन MBA Finance है। मुझे पढ़ने और पढ़ाने का शोख है इसलिए में पार्ट टाइम मैं ब्लॉग लिखता हूँ और यूट्यूब के लिए बुक समरी और मोटिवेशनल वीडियो बनता हूँ।

Leave a Comment