SECRET OF MILLIONAIRE MIND HINDI BOOK SUMMARY

SECRET OF MILLIONAIRE MIND HINDI BOOK SUMMARY

Secrets of the Millionaire Mind: Mastering the Inner Game of Wealth Book में T. Harv Eker (टी. हार्व एकर) कहते हैं कि आप मुझे अपना सिर्फ 5 मिनट दीजिए। मैं आपको बता दूंगा कि जिंदगी भर आपका फाइनेंसियल स्टेटस कैसा होगा? और आप अमीर बन पाओगे या नहीं? वह इस बात को इतने दावे से इसलिए बोल पाते हैं, क्योंकि उन्होंने सालों तक मिलियनेयर, और सफल लोगों की सायकोलोग्जी, माइंडसेट, हैबिट और उनकी जिंदगी का स्टडी किया है। जिसे उन्होंने अपनी किताब ” Secrets of the Millionaire Mind ” मैं हमें बताया है।

secrets of the millionaire mind book summary in hindi

Secret of Millionaire Mind Book Summary in Hindi

Secrets of the Millionaire Mind में लेखक हमें Money Blueprint (मनी ब्लूप्रिंट) और 17 Wealth File (17 वेल्थ फाइल) के बारे में बताते हैं। ताकि हम भी अमीर लोगों के माइंडसेट और सायकोलोग्जी को सीख के अमीर और सफल बन कर अपने सपनों को पूरा कर सकें। जिसे वे खुद करके मिलियनेयर बने हैं।

Secrets of the Millionaire Mind में ऑथर स्टार्ट करते हैं एक Wealth Principal (वेल्थ प्रिंसिपल)  के साथ जो कि हैं TFAR (टी एफ ए आर)

टी का मतलब थॉट (विचार)

एफ का मतलब फीलिंग (भावना)

ए का मतलब एक्शन (प्रतिक्रिया)

आर का मतलब रिजल्ट (परिणाम)

यानी कि हमारे विचार हमारी भावना को जन्म देते हैं। हमारी भावना हमारे एक्शन को और हमारे एक्शन तय करते हैं हमारे परिणाम को।आईये इसे समझते है, कि हमारे विचार, हमारी भावना, और हमारे एक्शन कैसे हमारे परिणाम को प्रभावित करते हैं?

अगर आप इस विचार से पैसा बचा रहें हैं या फिर निवेश कर रहें हैं की ये पैसा मेरे बुरे वक्त मैं काम आएंगे तो आप उसी के हिसाब से एक्शन भी लोंगे। आप पेसा भी उतना ही कमाओगे और उतने ही बचाओगे। सिर्फ एक डर की भावना के साथ तो अन्तिम परिणाम क्या होगा वह बुरा वक्त जरूर आएगा।

secrets of the millionaire mind

लेकिन वहीं अगर आप अमीर बनने और वेल्थ बनाने के विचार से एक्शन लेते हो तो आप छोटा नहीं सोचते हैं। आपके एक्शन उतने ही बड़े होते हैं और आप उतने ही बड़े लेवल पर पैसा कमाते है तो रिजल्ट में आपको वेल्थ, पैसों की आजादी, और सफलता ही मिलेगी। असल में अमीर लोग उन चीजों पर फोकस करते हैं जो वो चाहते हैं। वही गरीब लोग उन चीज़ों पे फोकस करते हैं जो वो नहीं होने देना चाहते हैं।

लेखक कहते हैं की यह दो अलग तरह की सोच हमारे मनी ब्लूप्रिंट  से प्रभावित होती है। मनी ब्लूप्रिंट  आपके लगाए गए फाइनेंसियल पेड़ की जड़ों की तरह है, जो तय करती है कि इसमें कैसे और क्या फल आएंगे। फल से मतलब परिणाम है यानि की रिजल्ट।

लेखक के अनुसार हमारा फाइनेंसियल माइंडसेट और मनी ब्लूप्रिंट इन तीनों कारणों से प्रभावित होता है।

वर्बल प्रोग्रामिंग

यानी कि अमीर लोगों के बारे में अपने आसपास के लोगों, और अपने परिवार से जो सुनते हैं वो हमारे माईंड को कंडीशन करते है। जैसे कि गरीब अभिभावक का अपने बच्चों से बोलना कि ज्यादा पैसा सारी समस्या की जड़ हैं। कोई भी कम समय में बिना गलत काम किए अमीर नहीं बन सकता है। या अमीर लोग लालची या सेल्फिश होते हैं।

यह सब विचार हमारे अभिभावक अपने शब्दों या बातों से हमारे दिमाग में डाल देते हैं। लेकिन इसका मतलब ये नहीं कि गरीब अभिभावक बुरे होते हैं। या हमारा बुरा चाहते हैं। वो इसलिए ऐसा कहते हैं कि यही विचार एक वक्त पे उनके आसपास के लोगों और उनके अभिभावक ने उनके दिमाग में डाले थे। वही अमीर अभिभावक अपने बच्चों को पेसो और जिन्दगी के बारे में बिल्कुल अलग बातें सिखाते हैं। तो आप की बाहर की दुनिया आपकी अंदर चलने वाली सोच और आदतों का परिणाम है।

मॉडलिंग

जिस तरीके से हमें कंडीशन किया जाता है वो है मॉडलिंग। हम बचपन से ही अपने माता-पिता, और अपने आसपास के लोगों से सीखते हैं कि वो कैसे पैसे खर्च करते हैं तथा किस तरह से अपनी ज़िंदगी जीते हैं। दूसरे शब्दों में कहे तो हम उनकी नक़ल करते है और यही हमारा संस्कार बन जाता है और इसी के अकॉर्डिंग फिर हम अपनी ज़िंदगी जीने लग जाते है। परअच्छी बात यह है कि कोई गरीब अपनी स्थिति को बदलना चाहता है, तो वह अपनी सोच व माइंडसेट को बदल कर के कर सकता है।

स्पेसिफिक इंसिडेंट

कोई स्पेसिफिक पॉजिटिव या नेगेटिव इंसिडेंट जैसे कि आपकी फैमिली को पैसे, गरीबी व कठिनाइयों से गुजरना पड़ा। और यह सब देखकर आपको पैसों का महत्व समझ आया। और आपने ठान लिया कि में ख़ूब पैसे कमाऊंगा ताकि मुझे और मेरे परिवार को फिर से ये दिन न देखना पड़े।

Secret of Millionaire Mind Book Summary in Hindi

देखा जाए तो आज के दौर में लगभग सभी व्यक्ति पैसा चाहते हैं। और आखिर पैसा किसको पसंद नहीं लेकिन सेल्फ मेड मिलियनेयर वही बनते हैं जो यह बताई जाने वाली 17 वेल्थ फाइल को फॉलो करते हैं। यही 17 वेल्थ फाइल दिखाती है कि अमीर और गरीब माइंडसेट वाले लोगों की साइकोलॉजी और एक्शन मैं कितना बड़ा फर्क है।

वेल्थ फाइल 1

अमीर लोग मानते है की मैं अपनी ज़िंदगी खुद बनता हूँ वही गरीब लोग मानते है की ज़िंदगी में मेरे साथ  घटनाएँ होती है

अगर आप अमीर बनना चाहते है, तो यह मानना जरूरी है की आप अपने लाइफ ख़ासकर अपने वित्तीय जीवन के सिट्रयरिंग व्हील पर बैठे है।  अगर आप ऐसा नहीं मानते है, तो इसका मतलब यह है की आपका अपने जीवन पर बहुत काम नियंत्रण है या नियंत्रण है ही नहीं और इसलिए आपका अपनी वित्तीय सफलता पर भी आपका बहुत काम नियंत्रण है या नियंत्रण है ही नहीं।  यह अमीरों का नजरिया नहीं है।

वेल्थ फाइल 2

अमीर लोग पैसों का खेल जीतने के लिए खेलते हैं। वही गरीब लोग पैसे का खेल हार से बचने के लिए खेलते हैं।

यानी कि अमीर लोग ज्यादातर फोकस पैसा कमाने में लगाते हैं। और गरीब लोग सिर्फ पैसा बचाने में और कोई भी रिस्क ना लेने में लगाते हैं। इसलिए दोस्तों अगर आपका लक्ष्य आरामदेह बनना है, तो इस बार की पूरी संभावना है की आप कभी अमीर नहीं बन पाएंगे।  लेकिन अगर आपका लक्ष्य अमीर बनना है, तो इस बात की पूरी संभावना  है की आप बहुत आरामदेह तो बन ही जायेंगे।  क्योकि आप वही पाते है जिसे पाने का सच्चा इरादा रखते हैं।  अगर आप अमीर बनना चाहते है तो आपका लक्ष्य अमीर होना चाहिए, बिल चुकाने लायक या आरामदेह होने लायक पैसे होना नहीं। अमीर मतलब अमीर।

वेल्थ फाइल 3

अमीर लोग अमीर बनने के प्रति समर्पित होते है वही गरीब लोग सिर्फ अमीर बनना चाहते है।

यानी कि अमीर लोग खुद से वादा करके रखते हैं, चाहे कुछ भी हो जाए मैं तो अमीर बन के ही रहूंगा। तभी वो दोस्तों के साथ समय बिताने की जगह अपने बिजनेस के लिए काम करते हैं। और हर वो कोशिश करते हैं जिससे वो अमीर बन सके। वही गरीब लोग सिर्फ अमीर बनना चाहते हैं, लेकिन वह उसके लिए कभी भी कोशिश या काम नहीं करते हैं। वो अमीरों की तरह जीना चाहते हैं लेकिन उनकी तरह एक्शंस नहीं लेते हैं।

वेल्थ फाइल 4

अमीर लोग बड़ा सोचते है वही गरीब लोग छोटा सोचते है।

अमीर लोग बड़ा और दूर का सोचते हैं साथ ही अपने कम्फर्ट जोन से बाहर जीते हैं। लेकिन गरीब मानसिकता वाले छोटा सोचते हैं तभी उनकी सोच सीमित होती है। और वह अपने कम्फर्ट जोन तथा सीमित संसाधनों के साथ ही जीते हैं। अगर आपका लक्ष्य कम्फर्ट मैं जीना है तो संयोग से आप कभी अमीर नहीं बन पाओगे। लेकिन अगर आपका लक्ष्य अमीर बनने का है तो आप आगे जाकर कम्फर्टेबल जिंदगी जी पाओगे। अगर आप आसान काम करना चाहते हो तो जिंदगी मुश्किल रहेगी। लेकिन अगर आप आज मुश्किल काम करते हो तो जिंदगी आगे आसान रहेगी।

वेल्थ फाइल 5

अमीर लोग  अवसरों पर ध्यान केंद्रित करते है। ग़रीब लोग बाधाओं पर ध्यान केंद्रित करते है। 

आपकी एकाग्रता किस क्षेत्र में है, इसी से तय होता है की जीवन में  आपको क्या मिलता है।  अवसरों पर ध्यान केंद्रित करेंगे, तो अवसर मिलेंगे।   बाधाओं पर ध्यान केंद्रित करेंगे तो बाधाएं मिलेगी।  में यह नहीं कह रहा हूँ की समस्याओं की परवाह न करें।  जाहिर है, जब समस्याएँ आएँ तो उनसे तत्काल निबटें।  लेकिन अपनही निखाह लक्ष्य पर जमाये रखें और लगातार उसकी और बढ़ते रहें।

वेल्थ फाइल 6

अमीर लोग दूसरे अमीर और सफल लोगों की प्रशंसा करते है वही ग़रीब लोग अमीर और सफल लोगों से द्वेष रखते है। 

आपको यह एहसास करना होगा की अगर आप अमीर लोगों को किसी भी तरह से बुरा मानते है और खुद अच्छा बनना चाहते है, तो आप कभी अमीर नहीं बन सकते। यह असंभव है।  आप वैसा आदमी कैसे बन सकते है जिससे आप नफ़रत करते है। 

वेल्थ फाइल 7

अमीर लोग सकारात्मक और सफल लोगों के साथ रहते है वही गरीब लोग नकारात्मक और असफल लोगों के साथ रहते है। 

अमीर लोग  दूसरे सफल लोगों को रोल मॉडल की तरह देखते है , जिनसे कुछ  सीखा जा सकता है।  वही गरीब लोग दूसरों की सफलता के बारें में सुनते है तो वे अक्सर उनकी खामियां खोजते है, आलोचना करते है और उन्हें खींच कर अपने स्तर तक लाने की कोशिश करते है।  दोस्तों अब सवाल ये उठता है की अगर आप किसी को निचा दिखते है , तो आप उससे कुछ कैसे सीख सकते है या प्रेरणा पा सकते है।   इसलिए दोस्तों दौलत बनाने का सबसे तेज और आसान तरीका ये सीखना है की अमीर लोग यानि की पैसे के महारथी यह खेल कैसे खेलते है।  आपका लक्ष्य उनका अंदरूनी और बाहरी रणनीतियों की नक़ल करना होना चाहिए। 

वेल्थ फाइल 8

अमीर लोग खुद को प्रमोट करने में विश्वास रखते हैं। तभी वो बिजनेस, मार्केटिंग, और सेल्स में भी अच्छे होते हैं। वहीं करीब मानसिकता वाले लोग खुद को प्रमोट करना, मार्केटिंग, सेलिंग को भी गलत नजरिए से देखते हैं।

अमीर लोग आम तौर पर लीडर होते है और सभी महान लीडर्स महान प्रचारक होते हैं।  लीडर बनने के लिए आपके पास फ्लोवेर्स होने चाहिए, जिसका मतलब है की आपको लोगों को अपनी भविष्य दृष्टि बेचने और प्रेरित करने के मामले में निपुण बनाना होगा।  यहाँ तक की हमारे देश के प्रधानमंत्री को भी अपने फैसलों पर अमल करवाने के लिए लगातार जनता को, संसद को, अपनी खुद की पार्टी तक को अपने विचार बेचने होते है।  और इस सबसे पहले, अगर वह खुद का प्रचार नहीं करेगा, तो उसे कभी चुना ही नहीं जायेगा।  और जो लीडर अपना प्रचार नहीं करता वह लम्बे समय तक लीडर नहीं रहेगा, चाहे राजनीति में हो, बिज़नेस में हो , खेल में हो या माता पिता  के रूप में हो।  में इस बात को जोर देकर इसलिए कह रहा हूँ क्योकी लीडर फ्लोवर्स से बहुत ज्यादा पैसे कमाते है। 

वेल्थ फाइल 9

अमीर लोग अपनी समस्याओं से ज्यादा बड़े होते है वही गरीब लोग अपनी समस्याओं से ज्यादा छोटे होते है। 

गरीब लोग समस्याओं से बचने के लिए लगभग कुछ भी करने को तैयार हो जाते है।  वे चुनौती देखकर भाग खड़े होते है।  विडम्बना यह ही की समस्याओं से बचने की कोशिश में वे सबसे बड़ी समस्या को आमंत्रित कर लेते है।  मेरे दोस्तों, सफलता का रहस्य समस्याओं से बचने या उनसे पीछा छुड़ाने या उनसे कतराने की कोशिश करना नहीं है रहस्य तो खुद को इतना बड़ा बनाना है की आप किसी भी समस्या से  ज्यादा बड़े बन जाये। 

वेल्थ फाइल 10

अमीर लोग उत्कृष्ट प्राप्तकर्ता होते हैं। गरीब लोग ख़राब प्राप्तकर्ता होतें हैं। 

अमीर लोग इस बात पर विश्वास करते हैं कि उन्हें जो मिलना चाहिए उसके लिए वो अपने आप को लायक समझते हैं। चाहे फिर वो कॉम्प्लीमेंट, बिज़नेस प्रॉफिट, या फिर सम्मान हो। वही गरीब लोग बेड रिसीवर होते हैं। यानी कि उन्हें अपने कम आत्म सम्मान के कारण उनको लगता है कि वो कोई बड़ा काम करने के लायक नहीं है। उनकी कोई तारीफ कर दे उन्हें वो कॉम्प्लीमेंट का जवाब कैसे देना है उनको पता ही नहीं होता है।

वेल्थ फाइल 11

अमीर लोग अपने परिणामों के आधार पर भुगतान का विकल्प चुनते है। वही गरीब लोग अपने लगाए गए समय के आधार पर भुगतान चाहते है। 

गरीब लोग पैसे के बदले में अपना समय देते हैं। इस रणनीति के साथ समस्या यह है की आपका समय  सीमित है।  इसका मतलब है की आप हमेशा दौलत के नियम 1 को तोड़ते है , जो कहता है, अपनी आमदनी को कभी सीमाओं में न बांधें।  अगर आप अपने समय के हिसाब से भुगतान पाने का चुनाव करते हैं, तो आप  काफी हद तक दौलत की अपनी संभावना का गाला घोंट रहे है। इसलिए अमीर लोग परिणाम के आधार पर काम को चुनते हैं। वही गरीब लोग अपने समय के आधार पर काम को चुनते हैं।

वेल्थ फाइल 12

अमीर लोग यह भी और वह भी सोचते हैं। गरीब लोग यह या वह सोचते हैं। 

गरीब लोग सोचते हैं कि हम सबकुछ पा नहीं सकते हैं। या हम सबकुछ एक साथ मैनेज नहीं कर सकते हैं। या तो हम अपने काम पर फोकस कर सकते हैं या फिर अपने परिवार पर फोकस कर सकते हैं। वही अमीर लोग अलग विकल्प और चीजों को मैनेज करना पसंद करते हैं। मतलब वो अपनी फैमिली लाइफ और प्रोफेशनल लाइफ को मैनेज करने में अच्छे होते हैं। साथ ही अलग अलग काम को करने से डरते नहीं हैं।

वेल्थ फाइल 13

अमीर लोग अपनी नेट वर्थ पर ध्यान केंद्रित करते है। वही गरीब लोग अपनी आमदनी पर ध्यान केंद्रित करते है। 

अमीर लोग अपनी नेटवर्थ पर फोकस करते हैं, यानी कि वह यह देखते हैं कि उनके सारे एसेट्स, सेविंग्स, और इनवेस्मेंट को मिला के उनकी खुद के समय में क्या नेटवर्थ है। और वही गरीब और मिडिल क्लास लोग अपनी तनख्वाह और इनकम पर फोकस करते हैं।

वेल्थ फाइल 14

अमीर लोग अपने पैसे का अच्छा प्रबंधन करते हैं। वही गरीब लोग अपने पैसे का बुरा प्रबंधन करते हैं। 

अमीर लोग अपने पैसे को अच्छे से मैनेज करना जानते हैं। और वह यह स्किल इंटरनेट और फाइनेंशियल बुक की मदद से सीखते हैं। और वही गरीब लोग पैसों को खर्च करने और फालतू बर्बाद करने में अच्छे होते हैं। ये अपने आसपास के लोगों, सेलिब्रिटीज, और टीवी को देखकर सीखते हैं।

वेल्थ फाइल 15

अमीर लोग पैसे से अपने लिए कड़ी मेहनत करवाते हैं। वही  गरीब लोग अपने पैसे के लिए कड़ी मेहनत करते हैं। 

अमीर लोग अपने पैसों का एक ऐसा सिस्टम बना लेते हैं जिससे उनका पैसा हार्ड वर्क करके उनके लिए और पैसा बनाता है। वही गरीब लोग पैसा कमाने के लिए हार्ड वर्क करते हैं।

वेल्थ फाइल 16

अमीर लोग डर के बावजूत काम करते हैं। वही गरीब लोग डर  के कारन रुक जाते हैं। 

अमीर लोग डर के बावजूद काम करते हैं यानी कि ऐसा नहीं है कि अमीर सोच बालों को डर ही नहीं लगता, उन्हें भी कोई एक्शन या रिस्क लेने के पीछे का डर महसूस होता है। लेकिन वह उस डर को ना ही अपने ऊपर हावी होने देते हैं और ना ही उस डर को अपने अमीर बनने की यात्रा में बाधा उत्पन्न करने देते हैं। वही गरीब लोग डर के कारण कोई एक्शन नहीं ले पाते हैं, और यही डर उनके सपनों, ख्वाहिशों, और उम्मीदों से ज्यादा ताकतवर होता है।

वेल्थ फाइल 17

अमीर लोग लगातार सीखते और विकास करते हैं। वही गरीब लोग सोचते हैं की वे पहले से ही सब कुछ जानते हैं। 

दोस्तों अमीर लोग हमेशा कुछ ना कुछ सीखते रहते हैं। और आगे बढ़ते रहते हैं। वही गरीब सोच वाले लोगों को लगता है कि उन्हें सब पता है। और जो यह समझता है कि उसे सबकुछ पता है, वह व्यक्ति आगे नहीं बढ़ सकता है। क्योंकि उसने कुछ नया जाना और सीखा नहीं है।

और पढ़ें: 21 Secrets of self made millionaires Hindi book summary

तो दोस्तों इस आर्टिकल में (SECRET OF MILLIONAIRE MIND HINDI BOOK SUMMARY) बस इतना ही आपको ये आर्टिकल (SECRET OF MILLIONAIRE MIND) कैसी लगी हमें कमेन्ट कर के जरूर बताये। अगर आप इस बुक का कम्पलीट वीडियो समरी देखना चाहते है तो ऊपर दिए लिंक से देख सकते है।

हमारे लेटेस्ट वीडियो को देखने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करना न भूले।

धन्यवाद!!

S.K. Choudhary

नमस्कार दोस्तों, हमारे इस ब्लॉग में आपका स्वागत है, मेरा नाम है S.K. Choudhary (ऐस. के. चौधरी) और मैं एक ब्लॉगर और यूटूबर हूँ। में एक प्राइवेट कंपनी में जॉब करता हूँ और मेरा highest एजुकेशन MBA Finance है। मुझे पढ़ने और पढ़ाने का शोख है इसलिए में पार्ट टाइम मैं ब्लॉग लिखता हूँ और यूट्यूब के लिए बुक समरी और मोटिवेशनल वीडियो बनता हूँ।

Leave a Comment